SSC GD Medical Test Kaise Hota Hai : Complete Information

SSC GD Medical Test कैसे होता है ?

SSC GD Medical Test कैसे होता है ?
SSC GD Medical Test कैसे होता है ?

SSC GD Medical Test  

सबसे पहले एस एस सी जीडी में Exam पास करना होता है कभी-कभी एस एस सी जीडी में पहले फिजिकल करा लिया जाता है और उसके बाद एग्जाम लिया जाता है जो उम्मीदवार एग्जाम में पास हो जाता है उसी को मेडिकल टेस्ट के लिए बुलाया जाता है जो भी उम्मीदवार दौड़ के दौरान पास हो जाते हैं उनका मेडिकल टेस्ट होता है | SSC GD भर्ती देखने से पहले इसके मेडिकल टेस्ट के बारे में संपूर्ण जानकारी होना बहुत जरूरी है |

इस पोस्ट में हम जानेंगे कि SSC GD में शरीर के किन किन अंगो का Medical Test होता है | और बहुत प्रकार की सावधानियां भी जानेंगे |

एसएससी जीडी में बहुत उम्मीदवार बस इसी कारण Unqualified हो जाते हैं क्योंकि उन्हें SSC GD Medical Test के बारे में सही जानकारी नहीं मिल पाती और बे Candidate किसी कारण से गलती कर बैठते हैं और उसके कारण उन्हें भर्ती से बाहर कर दिया जाता है |

सभी उम्मीदवार को यह पता होना चाहिए कि हम जब भी मेडिकल टेस्ट के लिए जाएं तब हम अपने शरीर को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखना चाहिए और शरीर के अंदर किसी भी प्रकार की कोई भी प्रॉब्लम होने पर तुरंत उसका इलाज और उपचार कराना चाहिए आज हम इस पोस्ट के माध्यम से सभी उम्मीदवारों को यह जानकारी देने वाले हैं कि SSC GD Medical Test कैसे होता है और इसमें क्या क्या सावधानी रखना चाहिए |

सावधानी रखने का मतलब यह है कि आप एक स्वस्थ शरीर वाले होते हुए भी भर्ती से निकाल दिए जाते हैं मेडिकल टेस्ट के दौरान तो इसका मतलब यह है कि आपने किसी प्रकार की गलती की है अर्थात सावधानी नहीं रखी है वह हम सब कुछ इस पोस्ट के माध्यम से बताने वाले हैं –

SSC GD Medical Test और सावधानियां:-

Chest Test कैसे होता है ? (SSC GD  Medical Test)

SSC GD मैं Medical Test की शुरुआत Chest से होती है | इस टेस्ट के दौरान सभी उम्मीदवार को Minimum 5 c.m. अपना चेस्ट बुलाना पड़ता है | तो सभी उम्मीदवार नॉर्मल अंदर की ओर  हवा खींच कर आप अपनी चेस्ट को फूलाते हैं |  और जो उम्मीदवार यह करने में सफल हो जाता है उसका Chest Medical Test  हो जाता है |उम्मीदवार मेडिकल होने के समय अपना चेस्ट फूलाने में  असफल होती हैं उन्हें भर्ती से निकाल दिया जाता है

सावधानी- Chest Test  मैं किसी भी प्रकार से घबराने की जरूरत नहीं है अपना नॉर्मल शरीर रखकर आप आसानी से 5 सेंटीमीटर अपना सीना फुला सकते हैं और आप आसानी से इस टेस्ट में पास हो जाएंगे |

अगर आप घबराते हैं तो आपको सबसे बड़ी प्रॉब्लम यह होगी कि आप  अपना चेस्ट फुला नहीं पाओगे क्योंकि सही तरीके से अपने अंदर नहीं खींच पाओगे इसीलिए आपको अपना शरीर नार्मल रखना है |ताकी आप अपने चेस्ट को सही तरीके से फूला सकें

Weight Test कैसे होता है ? (SSC GD  Medical Test)

Weight Test कैसे होता है
Weight Test कैसे होता है

SSC GD की इस भर्ती में जो भी उम्मीदवार दौड़ के दौरान पास हो जाते हैं और उनका Medical Test होता है | Weight Test  मैं सभी उम्मीदवार का Weight नॉर्मल 50 KG होना चाहिए |

इससे कम वजन होने पर उस उम्मीदवार को भर्ती से निकाल दिया जाएगा | इसके अलावा सबसे बड़ी जानकारी यह होना चाहिए कि आपकी  जितनी लंबाई होगी उसके अनुसार आपके शरीर का वजन होना चाहिए |

सबसे बड़ी सावधानी यह है इसमें कि आपको अपना शरीर स्वस्थ रखने की बहुत आवश्यकता है एक स्वस्थ शरीर में ही सही Weight होता है |

Body Marks Test कैसे होता है ? (SSC GD  Medical Test)

Body Marks Test  के दौरान आपके शरीर में वह निशान देखे जाते हैं जो कि आप ने बनवाए हैं या फिर नेचुरल बन गए हैं अर्थात आपके शरीर में हाथों में कहीं पर टैटू तो नहीं है या किसी प्रकार का कोई कट का निशान तो नहीं है |

अगर इस प्रकार से आपके शरीर में किसी भी प्रकार का कोई भी Body Marks पाया जाता है तो उस Marks की अच्छी तरीका से जांच होती है और जो भी जांचकर्ता होते हैं उनके अनुसार अगर आप के निशान शरीर पर गलत जगहों पर हुए या फिर आपके शरीर पर किसी भी प्रकार का गलत निशान हुआ तो आपको भर्ती से बाहर भी किया जा सकता है |

जैसे कि आप इस तस्वीर से समझ सकते हैं:-

Body Marks Test कैसे होता है
Body Marks Test कैसे होता है

किसी चोट का निशान होने पर इतनी प्रॉब्लम नहीं आती जितनी कि किसी टैटू का निशान होने पर आती है |

आपके शरीर पर नेचुरल कोई भी Body Marks है तो उससे कोई भी प्रॉब्लम नहीं आएगी जैसे कि शरीर पर मस्से का होना, शरीर पर तिल का होना |

Knock Knee Test कैसे होता है ? (SSC GD Medical Test)

Knock Knee Test कैसे होता है
Knock Knee Test कैसे होता है

Knock Knee Test मैं सभी उम्मीदवार को सावधान पोजीशन में खड़ा किया जाता है | और इस टेस्ट के दौरान आपके पैरों से  लेकर घुटने तक आपके पैरों को अच्छी तरीका से देखा जाता है | Knock Knee Test मैं आपके घुटने मिल तो नहीं रहे इसे देखा जाता है |

इस टेस्ट के दौरान अगर आपके घुटने आपस में मिल रहे होंगे तो आपको इस भर्ती से बाहर निकाल दिया जा सकता है |  या फिर आपके घुटनों के बीच में बहुत अधिक स्पेस है  तो भी आपको समय दिया जा सकता है |

और आपको रिमेडिकल (Remedical) के लिए भेजा जा सकता है |ऐसा होने पर उम्मीदवार को री मेडिकल के लिए बुलाया जाता है

सावधानी :-  इस अवस्था में जितना अधिक आप अंदर से घबराए गे उतने ही अधिक आपको प्रॉब्लम हो सकती है इसीलिए आपको अपना शरीर मेडिकल टेस्ट के दौरान नॉर्मल रखना है |

Knock Knee की बहुत तरह की एक्सरसाइज होती है जिनसे आप अपने पैरों को नार्मल कर सकते हैं अगर आपको उन एक्सरसाइज के बारे में जानना हो तो जरूर हमें कमेंट बॉक्स में बताना |

Legs Veins Test कैसे होता है ? ( SSC GD Medical Test)

Legs Veins Test कैसे होता है
Legs Veins Test कैसे होता है

Legs Veins Test के दौरान आपके पैरों की नसों का टेस्ट होता है इस टेस्ट में आपके पैर के जस्ट बेक साइड में और पैर के लेफ्ट साइड में जो नसें होती है उनका टेस्ट होता है कहीं आप की नसें फूल तो नहीं रही या फिर अन्य कोई प्रॉब्लम तो नहीं |

Knock Knee Test कैसे होता है ? ( SSC GD  Medical Test)

सावधानी :-  इस अवस्था में जितना अधिक आप अंदर से घबराए गे उतने ही अधिक आपको प्रॉब्लम हो सकती है इसीलिए आपको अपना शरीर मेडिकल टेस्ट के दौरान नॉर्मल रखना है |

Knock Knee की बहुत तरह की एक्सरसाइज होती है जिनसे आप अपने पैरों को नार्मल कर सकते हैं अगर आपको उन एक्सरसाइज के बारे में जानना हो तो जरूर हमें कमेंट बॉक्स में बताना |

Flat Foot Test कैसे होता है ? (  SSC GD Medical Test)

Flat Foot Test कैसे होता है
Flat Foot Test कैसे होता है

Flat Foor Test मैं आपकी पैर के तलवे के नीचे जगह होना चाहिए सभी लोगों ने देखा हुआ कि हमारे तलवे के नीचे जगह होती है हम किसी भी समतल जगह पर अपना पैर रखते हैं तो आप आसानी से अपने पैरों को देख सकते हैं तलवे के नीचे- अगर आप के तलवे के नीचे जगह नहीं है एकदम समतल जगह पर  चटपटे तलवे हैं तो आपको प्रॉब्लम हो सकती है अगर आपके पैरों के तलवे के नीचे बहुत अधिक जगह है तो भी आप को प्रॉब्लम हो सकती है आपके पैर के तलवे नॉर्मल होना चाहिए जैसे कि किसी नॉर्मल व्यक्ति के होते हैं |

Flat Foot Test मैं यही चेक किया जाता है कि आपके पैर के तलवे नॉर्मल है या फिर उनमें किसी प्रकार की कोई प्रॉब्लम है अगर किसी प्रकार की कोई प्रॉब्लम है तो आप ऐसे एक्सरसाइज  करके आसानी से सही कर सकते हैं |

Feet Fingers Test कैसे होता है ?

Feet Fingers Test के दौरान आपके पैरों की उंगलियों की जांच की जाती है इस टेस्ट में आपके उंगलियों का साइज देखा जाता है और उनकी आकृति और लंबाई भी देखी जाती है जिस प्रकार से आपके पैर की उंगलियां कहीं अधिक लंबी तो नहीं है या फिर किसी उंगली की कम लंबाई और किसी की बहुत अधिक लंबाई है तो किसी प्रकार की प्रॉब्लम हो सकती है |

अगर आपकी उंगलियां अधिक कटी हुई है या फिर उनमें कुछ अलग बीमारी है तो भी आप को प्रॉब्लम हो सकती है |

आपकी उंगलियों का गैप और उनकी लंबाई या नॉर्मल होना चाहिए तो आपको किसी भी प्रकार की कोई भी प्रॉब्लम नहीं आएगी |

Eyes Test कैसे होता है ? ( SSC GD  Medical Test)

Eyes Test कैसे होता है
Eyes Test कैसे होता है

Eyes Test सभी उम्मीदवार का 3 स्टेज में होता है-

1st Eye Test :-  इस टेस्ट में आपके सामने एक पेंसिल को घुमाया जाता है और जिस तरह वह पेंसिल घुमाई जाती है उसी तरफ आपकी आंखों का जो काला भाग होता है उसे उस पेंसिल की तरफ घुमाना पड़ता है ध्यान रखने वाली बात यह है कि इसमें आपको अपनी गर्दन नहीं घुमानी है |

उस पेंसिल को जो जांचकर्ता होता है वह लेफ्ट राइट ऊपर नीचे इस प्रकार से घुमाते हैं बस हमें उस पेंसिल की तरफ लेफ्ट राइट ऊपर नीचे देखना पड़ता है बिना गर्दन Move करें | इस टेस्ट में यदि आपने गर्दन को इधर-उधर हिलाया तो आपको तुरंत भर्ती से  निकाला जा सकता है

2nd Eyes Test:- इस टेस्ट के दौरान आपकी आंखों की जांच की जाती है कि आप दूर और पास आसानी से देख सकते हैं या नहीं  आपके सामने एक ऐसा चार्ट दिखाया जाता है जिसमें A,B,C,D और कुछ अंक होते हैं |

लेकिन इस चैट की खास बात रहती है कि इस चैट में जो भी अंक या जो भी कुछ लिखा रहता है  वह कोई तो बड़ा अच्छा रहता है और किसी अक्षर का साइज छोटा होता है लेकिन बस आप को उसे पढ़ कर बताना है और आप अगर ऐसा आसानी से कर सके तो आप पास हो जाओगे |

3rd Eyes Test Blind Test:- तीसरे टेस्ट के दौरान आपको ऐसा चार्ट दिया जाता है जिसमें गहरे कलर में कोई अंक लिखा रहता है या फिर कुछ और लिखा होगा बस उसे पढ़ कर बताना होता है इस प्रकार से Blind Test होता है | इस प्रकार के टेस्ट को Color Vision Test भी कहते हैं | ज्यादातर उम्मीदवार कलर विजन टेस्ट में असफल होते हैं

Ear Test ( SSC GD Medical Test) कैसे होता है ?

Ear Test मैं आपके कानों को अच्छी तरीका से देखा जाता है जैसे कि आपके कान के अंदर किसी भी प्रकार का कोई भी फोड़ा फुंसी तो नहीं है या फिर किसी भी प्रकार की गंदगी नहीं होना चाहिए और आप की सुनने की क्षमता सही है यह भी अच्छी तरीका से चेक किया जाता है और आपके कान एकदम साफ होना चाहिए |

आपके कान के अंदर मशीन के द्वारा भी अच्छी तरीका से जांच की जाती है ताकि पता लगा सके कि आप की सुनने की क्षमता सही है या फिर आपके कान के अंदर किसी भी प्रकार की कोई प्रॉब्लम तो नहीं है इस प्रकार से Ear Test होता है

Nose Test  कैसे होता है ? (SSC GD  Medical Test)

Nose Test टेस्ट में आपकी नाक को अच्छी तरीका से देखा जाता है कि कहीं आपके नाक के अंदर भी किसी भी प्रकार का फोड़ा फुंसी तो नहीं है या फिर इसके अलावा आपकी नाक की जो हड्डी है वह टूटी तो नहीं है या फिर अन्य किसी भी प्रकार की कोई समस्या तो नहीं है बस इसे चेक किया जाता है | इस प्रकार से Nose Test होता है |

 Teeth Test ( SSC GD Medical Test) कैसे होता है ?

Teeth Test मैं आपके दांतो को अच्छी तरीका से जांचा जाता है और इस जांच के दौरान आपके दांतो का साइज सही है और कहीं आपके दांत सड़े हुए तो नहीं है इस प्रकार से जांच की जाती है और आपके दांत आपके मुंह से बाहर तो नहीं निकल रहे हैं वह भी अच्छी तरीका से जांचा जाता है |

जब भी इस प्रकार से मेडिकल टेस्ट हो तो अपने दांतो की अच्छी तरीका से साफ सफाई करने के बाद ही मेडिकल टेस्ट करवाना है |

आपके दांतो की यह भी जांचा जाता है कि कहीं आपके मुंह के अंदर दांतों में या कहीं कैंसर जैसा किसी भी प्रकार की कोई समस्या तो नहीं है |तो इस प्रकार से Teeth Test  होता है |

Heart Test कैसे होता है ? ( SSC GD  Medical Test)

Heart Test मैं आपके हृदय की जांच की जाती है और इस जांच के दौरान आपके हृदय की धड़कनों को चेक किया जाता है कि कहीं आपकी धड़कने अधिक तेज तो नहीं है या फिर आप की धड़कन  कम तो नहीं है तो इस प्रकार से जांच की जाती है |

Heart Test के दौरान आप की धड़कन नॉरमल होना चाहिए |सावधानी रखने वाली यह बात है कि बहुत से कैंडिडेट घबरा जाते हैं और इस कारण से उनकी हार्टबीट बढ़ जाती है लेकिन आप लोगों को इस चेकअप के दौरान नॉर्मल रहना है ताकि आपको ऐसी किसी भी प्रकार की समस्या नहीं आए |

Blood Presure Test ( SSC GD  Medical Test) कैसे होता है 

Blood Presure Test मैं अच्छी तरीका से जांच की जाती है कहीं आपका ब्लड प्रेशर अधिक तो नहीं है या फिर आपका ब्लड प्रेशर बहुत कम तो नहीं है इसी की अच्छी तरीका से जांच की जाती है अर्थात आपका ब्लड प्रेशर नार्मल होना चाहिए |  लेकिन इसमें इतनी अधिक समस्या नहीं आती है बस आपको सावधानी रखने की जरूरत पड़ती है

Palm Test कैसे होता है ? (  SSC GD Medical Test)

Palm Test कैसे होता है
Palm Test कैसे होता है

Palm Test के दौरान आपके हथेलियों की जांच की जाती है इस जांच के दौरान आप की हथेलियों में कहीं अधिक मात्रा में पसीना तो नहीं आता है आपसे पहले हथेलियों से मुट्ठी मारने के लिए बोलेंगे और थोड़ी देर बाद आपकी मुट्ठी खुलवा आएंगे अगर इस दौरान आपके हथेलियों पर पसीना अधिक होता है तो आपको भर्ती से निकाला जा सकता है या फिर आपको री मेडिकल के लिए भेजा जाएगा | Palm Test इस प्रकार से होता है |

अगर आपको ऐसी समस्या है तो आपको तुरंत इलाज करवाना चाहिए ताकि आपको मेडिकल के दौरान ऐसी किसी भी प्रकार की समस्या नहीं आए |

Full Body X-ray Test ( SSC GD  Medical Test) कैसे होता है ?

Full Body X-ray Test  मैं आपकी पूरी बॉडी का X-ray करवाया जाता है  यह इसलिए करवाया जाता है क्योंकि बहुत से लोगों की हड्डियां टूटी रहती हैं इससे यह चेक किया जाता है कि कहीं आप की हड्डी टूटी तो नहीं है आपके हाथों की पैरों की या पूरे शरीर में कहीं भी किसी भी प्रकार की  हड्डियों में प्रॉब्लम तो नहीं है |

Testicles Test कैसे होता है ? ( SSC GD  Medical Test)

Testicles Test मैं अंडकोष का चेकअप किया जाता है इस जांच के दौरान उम्मीदवार के अंडकोष को अच्छी तरीका से जांचा जाता है कि कहीं उनका साइज़ अधिक तो नहीं है या फिर कम ज्यादा तो नहीं है |

इस जांच के दौरान यह भी देखा जाता है कि आपको किसी बड़ी समस्या के शिकार तो नहीं है या फिर आपके गुप्त अंग में कोई प्रॉब्लम तो नहीं है | इस जांच के दौरान आपका कहीं एक अंडकोष बड़ा तो नहीं या एक अंडकोष छोटा तो नहीं इस प्रकार से जांच की जाती है |

Piles Test :- इस टेस्ट के दौरान आपके पीछे वाले हिस्से में बवासीर देखी जाती है कहीं आपको बवासीर तो नहीं है यह समस्या बहुत लोगों के अंदर होती है इसलिए यह जरूरी जांच होती है

अगर यह बवासीर किसी उम्मीदवार के अंदर निकली तो उसे भर्ती से वंचित कर दिया जाता है या फिर उसे री मेडिकल के लिए बुलाया जाता है सभी उम्मीदवारों को यह सावधानी रखना चाहिए कि जब भी SSC GD की भर्ती देखें उस वक्त अगर यह बवासीर की समस्या हो तो जल्द इसका उपचार करा लेना चाहिए |

तभी की SSC GD भर्ती देखें वरना आपकी मेहनत बेकार चली जाएगी | SSC GD में बवासीर है किसी उम्मीदवार को तो उसे भर्ती में नहीं लिया जाता मेडिकल टेस्ट में निकाल दिया जाता है |

Paragraph Test ( SSC GD Medical Test) कैसे होता है ?

Paragraph Test मैं आपको एक पैराग्राफ दिया जाता है जिससे आपको सिर्फ पढ़ कर बताना है इस टेस्ट के दौरान सिर्फ यह देखा जाता है कि आप किसी पैराग्राफ को किस तरीके से पढ़ पाते हो कि छोटा सा टेस्ट रहता है जिससे ज्यादातर सभी लोग पास कर लेते हैं |

Introduction Test 

इस टेस्ट में आपका इंट्रोडक्शन लिया जाता है इसके दौरान सिर्फ आपसे बातें की जाती है और इन बातों के दौरान आपके स्वभाव और आपकी बातों को परखा जाता है यह एकदम नॉर्मल इंट्रोडक्शन रहता है इंटरव्यू की तरह लेकिन इसमें आपका नाम या आपके बारे में कुछ जानकारी ले सकते हैं |

और  आप आसानी से जवाब दे सकते हैं इसमें सिर्फ उम्मीदवार को यह देखा जाता है कि उम्मीदवार कहीं बोलने में सही बोल नहीं पाता या अन्य किसी प्रकार की कोई समस्या आती है बोलने में है इसीलिए यहां एक इंटरव्यू की तरह इंट्रोडक्शन लिया जाता है |

SSC GD Medical Test,SSC GD Medical Test ,SSC GD Medical Test ,SSC GD Medical Test ,SSC GD Medical Test ,SSC GD Medical Test ,SSC GD Medical Test ,SSC GD Medical Test

Leave a Reply