salary increment : प्राइवेट सेक्टर में औसत वेतन वृद्धि 8.6 प्रतिशत रहने का अनुमान, कंपनियों में हायरिंग भी बढ़ेगी

नई दिल्ली. प्राइवेट नौकरी करने वाले लोगों को लिए अच्छी खबर है। कर्मचारियों का इंक्रीमेंट वर्ष 2021 के मुकाबले अगले साल अधिक होने की उम्मीद है। वर्ष 2022 में औसत वेतन वृद्धि बढ़कर 8.6 फीसदी होने की उम्मीद है, जो 2019 के महामारी के पहले के स्तर के बराबर होगी। कंसल्टिंग फर्म डेलॉयट के ताजा सर्वे में कहा गया है कि 25 फीसदी कंपनियों ने 2022 में डबल डिजिट में इंक्रीमेंट करने की बात कही है।

डेलॉयट के कार्यबल और वेतन वृद्धि रुझान सर्वेक्षण, 2021 के दूसरे चरण के मुताबिक, वर्ष 2021 में प्राइवेट कंपनियों ने कर्मचारियों की औसतन 8 फीसदी वेतन बढ़ोतरी की थी। वहीं, 92 फीसदी कंपनियों ने वर्ष 2020 में केवल 4.4 फीसदी की औसत वेतन वृद्धि की थी। सर्वे के मुताबिक, वर्ष 2020 में केवल 60 फीसदी कंपनियों ने कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि की थी। सर्वे में 450 कंपनियां शामिल थीं। इंजीनियरिंग, लॉजिस्टिक, कृषि आधारित उद्योगों में नौकरियों के विज्ञापन में कमी से अगस्त में भर्ती गतिविधियों में एक फीसदी की मामूली वृद्धि दर्ज की गई।

इनको 1.8 गुना ज्यादा इंक्रीमेंट-
कंपनियां कौशल और प्रदर्शन के आधार पर वेतन वृद्धि में अंतर जारी रखेंगी। सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों को औसत प्रदर्शन करने वालों से लगभग 1.8 गुना ज्यादा वेतन वृद्धि की उम्मीद है।

इन सेक्टर्स में अधिक बढ़ोत्तरी की उम्मीद-
सर्वे के मुताबिक, वर्ष 2022 में आइटी क्षेत्र में सबसे ज्यादा वेतन वृद्धि होने की संभावना है। आइटी क्षेत्र के साथ डिजिटल और ई-कॉमर्स कंपनियां सबसे ज्यादा इंक्रीमेंट कर सकती हैं। इन सेक्टर्स में डबल डिजिट में वेतन वृद्धि होने की उम्मीद है। इसके बाद लाइफ साइंसेज सेक्टर में सबसे ज्यादा वेतन वृद्धि हो सकती है।

यहां होगी कम वेतन वृद्धि-
रिटेल, हॉस्पिटेलिटी, रेस्टोरेंट, इंफ्रास्ट्रक्चर और रियल एस्टेट कंपनियों में अगले साल सबसे कम वेतन वृद्धि होने का अनुमान जताया गया है।

Read The Original Article

Leave a Reply